इंटरव्यू में पूर्व क्रिकेटर Danish Kaneria ने खोले पाकिस्तान के पोल, कहा,”नमाज पढ़ने के लिए आते थे कॉल”

Danish Kaneria: पाकिस्तान में अल्पसंख्यक और हिंदू खिलाड़ियों के साथ हो रहे भेदभाव का मुद्दा जोरों पर है। पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर दानिश कनेरिया ने पाकिस्तान के इस काले सच से पर्दा उठाया है। एक न्यूज़ चैनल को दिए इंटरव्यू में दानिश कनेरिया ने कई बातों का खुलासा किया। उन्होंने इंटरव्यू में कहा की हिंदू होने की वजह से उन्हें पाकिस्तान टीम में भेदभाव का सामना करना पड़ा। खिलाड़ी ने बताया की हिंदू होने की वजह से उन्हें पाकिस्तान की टीम से बहार निकाला गया।

Danish Kaneria: शाहिद अफरीदी नवाज पढ़ने के लिए कहते थे

एक मीडिया चैनल को दिए इंटरव्यू में शहीद अफरीदी ने कहा कि, पाकिस्तान टीम में उनके साथ भेदभाव हुआ है। इतना ही नहीं इस खिलाड़ी ने पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर पर उन्हें तंग करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि उन्हें सुबह-सुबह नमाज पढ़ने के लिए फोन आते थे। उन्होंने इस बात का भी खुलासा किया कि टीम में उनके साथ कोई खाना नहीं खता था।

शोएब अख्तर करते थे सपोर्ट

हालाँकि, इंटरव्यू में उन्होंने तेज गेंदबाज शोएब अख्तर और पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इंजमाम-उल-हक़ की तारीफ की। दानिश कनेरिया ने बताया की उन दोनों ने उनका पूरा सपोर्ट किया। इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि,वे हिन्दू हैं और मरते दम तक हिंदू रहेंगे। उनके लिए उनका धर्म सबसे अहम है। उन्होंने कहा कि ‘मैं सनातन और हिंदू धर्म के लिए हमेशा आवाज उठता रहूँगा’।

इंटरव्यू के दौरान दानिश ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की। इतना ही नहीं उन्होंने कहा की यदि उन्हें मौका मिलेगा तो वे भारत की नागरिकता ले लेगें। उन्होंने पीएम मोदी से यह अनुरोध किया कि उनपर लगे बैन को हटाने में वे उनकी मदद करें। उन्होंने कहा की उनपर गलत तरीके से मैच फिक्सिंग का आरोप लगाया गया है। यदि वह अब भी पाकिस्तान टीम का हिस्सा रहते तो पाकिस्तान की टीम गेंदबाजी के मामले में नए रिकॉर्ड स्थापित करती।

यह भी पढ़ें:Shahid Afridi ने बेटी को आरती करता देख तोड़ डाला था टीवी,सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है वीडियो

Leave a Comment