Tuesday, September 27, 2022

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में बने श्रृंगार गौरी मंदिर में साल भर होती थी पूजा! फिर मुलायम सिंह ने जो किया…!

वाराणसी, उत्तर प्रदेश: ज्ञानवापी मस्जिद पर अदालत ने अपना आदेश दे दिया है। अदालत ने अपने आदेश में कहा है कि मस्जिद के अंदर तहख़ानों का सर्वे होगा। इसके लिए पुख़्ता सुरक्षा इंतज़ाम की व्यवस्था हो ऐसा कॉर्ट ने आदेश दिया है। पहले दिन का सर्वे पूरा हुआ। वहाँ से कई चौंकाने वाली चीजें सामने आने की सभावना जताई जा रही है।

समाजवादी पार्टी को ठहराया ज़िम्मेदार

इसी बीच भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रेम शुक्ला ने कहा है कि ‘माता श्रिंगार गौरी’ की पूजा रोकने के लिए ज़िम्मेदार उस समय की सरकार थी। ग़ौरतलब हो कि उस समय उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार थी तथा सूबे के मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव थे। ज्ञात हो कि कोर्ट द्वारा सर्वे तथा विडीओग्राफ़ी का आदेश श्रिंगार गौरी पूजा से ही सम्बंधित है। याचिकाकर्ता ने अदालत में यही अपील की थी कि उनको उस स्थान पर पूजा करने की अनुमति दी जाये।

मुलायम सिंह ने पूजा पर लगाई थीं रोक

इसी मुद्दे पर भाजपा नेता बोल रहे थे। एक चैनल पर बहस के दौरान उन्होंने मुलायम सिंह यादव की सरकार पर माता श्रिंगार गौरी की पूजा रोकने का आरोप लगाया। प्रेम शुक्ला ने बताया कि उन्होंने खुद माता श्रिंगार गौरी की पूजा की है। वहाँ पर सालों भर पूजा-अर्चना होती रही है। भाजपा नेता ने मुलायम सरकार पर आरोप लगाते हुए आगे कहा कि मुलायम सिंह यादव ने ‘Worship Act 1991’ का उल्लंघन करते हुए वहाँ पर पूजा पर रोक लगा दी थी।

समाजवादी पार्टी पर लगा तुष्टिकरण का आरोप

प्रेम शुक्ला ने मुलायम सरकार पर तुष्टिकरण का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सिर्फ़ एक समुदाय विशेष को ख़ुश रखने के लिए ऐसा काम किया गया।  बहस में बोलते हुए उन्होंने आगे कहा “मुझे भारत के अलावा विश्व की किसी एक मस्जिद के बारे में बताइये, जहाँ पर बूत यानि मूर्ति हो, शंख हो, चक्र हो, जहाँ पर मंदिर हो। आपका मजहब इस्लाम बार-बार कहता है कि किसी अन्य धर्म के विवादित स्थल पर मस्जिद नहीं कायम की जा सकती। यहाँ तो मंदिर को तोड़ा गया, यह इतिहास है।”

RELATED ARTICLES

Most Popular