Monday, January 30, 2023

Train की छत पर ये गोले क्या होते हैं और क्यों लगाए जाते हैं? इसका सही जवाब बहुत कम लोग जानते हैं…

Train पर लिखे नंबर, ट्रेन के डिब्बों पर बने डिजाइन आदि के बारे में तो आपने बहुत कुछ पढ़ा होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ट्रेन की छत पर ये गोल गेंदें क्या होती हैं। आपने इन्हें स्टेशन पर बने पुल या सड़क पर बने पुल से देखा होगा। बहुत कम लोग जानते हैं कि इसका क्या मतलब है, क्योंकि ट्रेन के अंदर से ऐसा कुछ भी दिखाई नहीं देता है। तो आज हम जानते हैं कि ये क्या हैं और क्यों बनाए जाते हैं।

Train

गोल ढक्कन का क्या है राज़?

दरअसल, ट्रेन की छतों पर लगे इन प्लेट या गोल आकार के फिगर को रूफ वेंटिलेटर कहा जाता है। जब ट्रेन के डिब्बे में यात्रियों की संख्या बढ़ती है तो आद्रता काफी बढ़ जाती है। इस गर्मी या घुटन से बचने के लिए ट्रेन के कोच में खास इंतजाम किए जाते हैं, नहीं तो बहुत मुश्किल हो सकती है। आपने कोच में देखा होगा कि इसके अंदर एक तरह की जाली लगी होती है जिससे गैस निकलती है. यानी कोच में कहीं जाली है तो कहीं छेद हैं। जिससे हवा गुजरती है। गर्म हवा हमेशा ऊपर की ओर उठती है। इसलिए कोच के अंदर छतों पर छेद वाली प्लेट लगाई जाती हैं, जहां से कोच से गर्म हवा निकलती है। ये गर्म हवा कोच के भीतरी छेद से बाहर की तरफ लगे रूफ वेंटीलेटर के जरिए बाहर निकल जाती है।

Read More: Golden Chariot Train: किसी फाइव स्टार होटल से कम नहीं है ये ट्रेन! जानिये क्या हैं सुविधाएं और किराया…

Train

Train की कोच में करता है वेंटिलेशन!

इसलिए कोच के अंदर छतों पर छेद वाली प्लेट लगाई जाती हैं, जहां से कोच से गर्म हवा निकलती है। ये गर्म हवा कोच के भीतरी छेद से बाहर की तरफ लगे रूफ वेंटीलेटर के जरिए बाहर निकल जाती है। लेकिन, इस जाली के ऊपर एक प्लेट लगा दी जाती है, ताकि बारिश का पानी आदि कोच के अंदर न आ सके. इसलिए ऊपर जो रूफ वेंटीलेटर लगे हैं, वे इसी वजह से लगाए गए हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular