Tuesday, September 27, 2022

दिल्ली के मुख्यमंत्री पहुंचे दिल्ली कैंट

बीते दिनों राजधानी दिल्ली में एक 9 वर्ष की बच्ची के साथ अनुचित कार्य होने के बाद वह इस दुनिया को अलविदा कह गई। इसके बाद ही अब राजधानी दिल्ली में अरविंद केजरीवाल के साथ-साथ उनके व्यवस्था पर भी कुछ लोग सवाल उठाते दिख रहे हैं। अरविंद केजरीवाल दिल्ली को तो संभाल नहीं पाते और पंजाब, उत्तराखंड में शासन करने के बात करते हैं। राजनीति में आने से पहले अरविंद केजरीवाल सुरक्षा को लेकर कई बड़े-बड़े वादे करते देखे गए थे। लेकिन सत्ता मिलने के बाद अब अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) मानो एक गहरी नींद ले रहे हैं। बीते दिनों अरविंद केजरीवाल संबंधित परिवार से मिलने उनके घर गए थे। लेकिन स्थानीय लोगों ने उनके साथ कुछ ऐसा किया जिसे जानने के बाद आप भी कहेंगे कि चुनावी मुख्यमंत्री के साथ ऐसा ही होना चाहिए।

अरविंद केजरीवाल समेत कई अन्य नेता भी परिवार से मिले

दिल्ली में 9 साल की बच्ची के साथ अनुचित कार्य होने के बाद जब यह खबर चर्चा में आई तो कई चुनावीजीवी राजनेता संबंधित परिवार के घर जाना शुरू कर दिए। कांग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) परिवार से मिलने गए थे। जिसके बाद ही दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी बच्ची के माता-पिता से मिलने गए। अरविंद केजरीवाल को वहां पहुंचते ही लोगों ने केजरीवाल की खटिया खड़ी कर दी। सिर्फ इतना ही नहीं वहां पहुंचने के बाद जब मुख्यमंत्री मंच से भाषण दे रहे थे तभी वे लड़खड़ाकर जमीन पर गिर गए।

ये भी पढ़े : छोटे पर्दे पर वापिस लौट रहा है ‘The Kapil Sharma show’ देखें शो में कौन होगा पहला गेस्ट…

अरविंद केजरीवाल में 10 लाख रुपए देने का किया ऐलान

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने बच्ची के परिवार से मुलाकात करने के बाद मीडिया में बयान जारी करते हुए कहा कि “बच्ची और उसके परिवार के साथ जो कुछ भी हुआ वह बिलकुल अनुचित है। सरकार बच्ची के परिवार को 10 लाख रुपये का मुआवज़ा देगी।” साथ ही साथ उन्होंने यह भी कहा कि अगर परिवार के साथ कोई भेद भाव करने की कोशिश करता है तो परिवार सीधे तौर पर हमसे संपर्क कर सकता है। दिल्ली सरकार हमेशा बच्चे की परिवार के साथ है।

दिल्ली में कानून व्यवस्था दुरुस्त करने की आवश्यकता– अरविंद केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आगे कहा कि इस मामले में हमने मजिस्ट्रियल जांच के लिए कहा है। दिल्ली सरकार बच्ची को न्याय दिलाने में हर संभव कोशिश करेगी। दिल्ली सरकार (Delhi Govt.) की तरफ से वकील नियुक्त किया जाएगा। अनुचित कार्य करने वाले को किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा। दिल्ली में क़ानून व्यवस्था को दूरस्थ करने की आवश्यकता है। मेरी केंद्र सरकार से अपील है कि इस बारे में कोई अहम निर्णय ले।

RELATED ARTICLES

Most Popular