देखें वीडयो: केंद्र सरकार को जितना जल्द हो ममता सरकार को बर्खास्त कर, राष्ट्रपति रूल लगा देनी चाहिए

0
196
the-central-government-should-sack-the-mamta-government-as-soon-as-possible-1
Pic Credit - Google Images

जब से नागरिकता संशोधन बिल लोकसभा के बाद राज्यसभा में पास हुआ हैं, तब से ही पश्चमी बंगाल के हालात अस्थिर हैं. पश्चमी बंगाल के हालात को देखते हुए ऐसा लग रहा है की वहां की स्थिति पुलिस के कण्ट्रोल से बाहर हो चुकी हैं, हिंसा की तस्वीरों में एक भी जगह पुलिस रोकथाम के लिए मजूद नहीं हैं.

हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए ऐसा लग रहा है की मानो पुलिस ही इस प्रदर्शन को बढ़ावा दे रही हो. इसी लिए इन हिंसक प्रदर्शनकारियों पर किसी तरह की कोई कार्यवाही नहीं की जा रही. वही पश्चमी बंगाल की मुख्यमंत्री की बात करें तो वह पहले से ही नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ है ऐसे में क्या मोदी विरोध के चलते वो पश्चमी बंगाल को आग में झोंकने देंगी?

पश्चमी बंगाल में यह पहली बार नहीं हैं की जब वहां पर इस तरह से दंगे भड़के हो, लेकिन अब क्योंकि दंगे जहां पर भड़क रहे हैं वह राज्य गैर बीजेपी शासित है और दंगे भड़काने वाले मुस्लिम समाज के लोग इसलिए अब कोई राजनितिक पार्टी इन दंगो को लेकर कुछ नहीं बोल रही.

उधर वामपंथी मीडिया की बात करें तो उनका कहना है की, पश्चमी बंगाल में मुस्लिम समाज के लोग बहुत ही शांतिमय तरीके से विरोध कर रहे हैं. लेकिन सोशल मीडिया पर आने वाली वीडियो से आप देख ही सकते है की प्रदर्शन कितना शांतिमय हैं और अगर वामपंथी मीडिया इसे शांतिमय कहते है तो हिंसक प्रदर्शन के मायने क्या होंगे?

ऐसे में अब देखना यह होगा की केंद्र सरकार इस मामले में क्या करती हैं और क्या इस बार राष्ट्रपति शासन लगाकर पश्मी बंगाल से बांग्लादेशी मुस्लिमों को देश से धक्के मारकर बाहर निकालने में कामयाब होती हैं या वहां पर रह रहे हिंदुवो का कश्मीर 1991 की तरह पलायन होने का इंतजार करती हैं.