देखें प्रियंका ने अपने बेटे के नाम के साथ कैसे “राजीव गांधी” का नाम जोड़ दिया,मतलब कांग्रेस के नए PM उम्मीदवार?

0
32453
Uttarakhand politics news, priyanka gandhi, rehan gandhi, rajeev gandhi, congress party, rahul gandhi, रेहान गांधी के नाम से जुड़ा राजीव गांधी, राहुल गांधी, दून स्कूल देहरादून, प्रियंका गांधी, कांग्रेस पार्टी, Dehradun News in Hindi, Latest Dehradun News in Hindi, Dehradun Hindi Samachar

Priyanka Gandhi vadra added the name of “Rajiv Gandhi” to her son name: रेहान वाड्रा (Rehan Vadra) जोकि आजादी के बाद की पांचवी पीढ़ी के बेटे हैं अब उनका नाम उनके नाना राजीव गांधी से जुड़ गया है! जब भी राजनीति से जुड़े लोग ऐसा कुछ करते हैं तो उसको राजनीति से ही जोड़ दिया जाता है! ऐसे ही कुछ यहां पर भी हुआ! जो नाम के अंदर बदलाव किया गया है उसे रेहान के राजनीतिक भविष्य से जोड़कर देखा जा रहा है! अहम बात यह है कि बीते दिनों राहुल गांधी यानी अपने मामा के नक्शे कदम पर चलते हुए उनकी लोकसभा सीट अमेठी के गोरेगांव में एक दलित परिवार के घर में अपने दो दोस्तों के साथ रात बिताई थी!

जानकारी के लिए बता दें कि लगभग 4 साल पहले प्रियंका वाड्रा और रॉबर्ट वाड्रा ने अपने बेटे का दाखिला देहरादून के द दून स्कूल में करवाया था! जहां उन्होंने उसका नाम रेहान वाड्रा लिखवाया! लेकिन कुछ लंबे समय से इस बात पर चर्चा हो रही थी कि रेहान वाड्रा का नाम परिवर्तन कराया जा रहा है! पहले यह कयास लगाई जा रही थी लेकिन अब नाम परिवर्तन हो चुका है! अब रेहान वाड्रा “रेहान राजीव वाड्रा” हो गए हैं! रेहान राजीव आगरा लोकसभा चुनाव में पहले भी कई मौकों पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के प्रचार में साथ नजर आ चुके हैं!

देहरादून के द दून स्कूल में चल रही मॉडल यूनाइटेड नेशंस कॉन्फ्रेंस के दूसरे दिन छात्रों ने अलग-अलग कमेटी अपनी प्रस्तुति दी है! रेहान राजीव वाड्रा ने लोकसभा में भी कई मुद्दों पर जोरदार बहस की! इतना ही नहीं बल्कि इसके अलावा कुछ दिन भर की और गतिविधियां भी संचालित की गई है!

हालांकि पिछले काफी सालों से रेहान राजीव वाड्रा को राजनीतिक आयोजनों से दूर रखा गया! कई साल पहले रेहान राजीव वाड्रा लोकसभा की विजिटर्स गैलरी में तत्कालीन कोयला मंत्री प्रकाश जायसवाल और स्मृति ईरानी की बहस सुनने पहुंचे थे! लेकिन अब वही रेहान वाड्रा के नाम के परिवर्तन को लेकर यह भी सवाल उठ रहे हैं कि क्या आने वाले समय में गांधी परिवार के राजनीतिक विरासत के वारिस बनेंगे?