Personal Loan: किसी भी जरूरत के लिए, 57 रुपये के क़िस्त पर ले जाएं 50000 का लोन!

किसी भी जरूरत के लिए, 57 रुपये के क़िस्त पर ले जाएं 50000 का लोन! आम लोगों की जिंदगी में अचानक से कोई भी खर्च सामने आ जाता है और ऐसे समय में दोस्त या फिर रिश्तेदारों से भी मदद नहीं मिल पाती है तो आप लोगों को परेशान होने की कोई भी आवश्यकता नहीं है क्योंकि नजदीक के किसी भी बैंक के माध्यम से आप पर्सनल लोन ले सकते हैं यहां पर 50000 से लेकर या फिर इससे ज्यादा का लोन आप आसानी से ले सकते हैं और इसे लेने और चुकाने में ज्यादा झंझट भी नहीं है.

आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले हैं कि पर्सनल लोन क्या है? पर्सनल लोन के क्या फायदे और नुकसान? पर्सनल लोन किन शर्तों पर दिया जाता है? अगर आप ₹50000 तक का पर्सनल लोन लेते हैं तो कितनी EMI देनी पड़ती है और उसकी अवधि क्या होगी? सभी बातों पर आज हम आपको विस्तार से बताने वाले हैं-

Personal Loan क्या है?

पर्सनल लोन एक असुरक्षित लोन है जो बैंकों या गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों द्वारा दिया जाता है। इसे ग्राहक लोन भी कहा जाता है। इसे असुरक्षित माना जाता है क्योंकि ग्राहक को इसके बदले कुछ भी गिरवी नहीं रखना पड़ता है। यह लोन किसी भी तरह की व्यक्तिगत जरूरत के लिए लिया जाता है। पर्सनल लोन लेने के लिए आवेदक को कोई सिक्योरिटी नहीं देनी पड़ती है. यह लोन आवेदक की आय के अनुसार दिया जाता है। पर्सनल लोन लेने का उद्देश्य बताना जरूरी नहीं है. यह लोन इन आधारों पर मिलता है- जैसे कि आवेदक की कमाई, आवेदक का कैश फ्लो, आवेदक का क्रेडिट स्कोर, रीपेमेंट कैपेसिटी। यदि कोई भी आवेदक इन सभी मानकों को पूरा कर लेता है तो उसे आसानी से पर्सनल लोन मिल जाता है.

Personal Loan पर कैसे भरते है EMI?

पर्सनल लोन को चुकाने का तरीका भी बाकी लोन की तरह ही सिंपल होता है पर्सनल लोन लेते समय आप उसका टेन्योर तय कर सकते हैं मान लीजिए कि यदि आपने कोई भी पर्सनल लोन 2 साल के लिए लिया है तो जाहिर सी बात है कि 24 EMI उसे लोन की आपको ब्याज के साथ देनी पड़ेगी। वही सभी लोन में शुरू के महीने में चुकाई जाने वाली पहली किस्त का बड़ा हिस्सा ब्याज का होता है जैसे-जैसे आगे बढ़ती रहती है ब्याज की राशि कम और प्रिंसिपल अमाउंट की राशि ज्यादा होती जाती है. इसलिए किसी भी पर्सनल लोन का टेन्योर जितना अधिक काम होता है उतना ही ज्यादा पर्सनल लोन में फायदा मिलता है.

अगर 50000 का Personal Loan हो तो चुकाने पड़ेंगे 57 रुपए

मान लीजिए यदि आपने ₹50000 का पर्सनल लोन लिया है और उसे लोन की अवधि 3 साल की हो गई है वहीं मार्केट के रेट के हिसाब से इंटरेस्ट रेट यानी की ब्याज की दर औसतन 13% है ऐसे में आपकी महीने की किस्त 1685 रुपए की आती है और इस राशि को महीने में 30 दिनों में बनते तो रोजाना लगभग आपको 57 रुपए की किस्त भरनी पड़ती है. यही पर्सनल लोन 3 साल में 60.649 रुपए में बदल जाता है और इसमें ब्याज का अमाउंट ₹10649 रुपए हो जाता है..

Personal Loan के नुकसान

दरअसल कई बार पर्सनल लोन लेकर जरूर से ज्यादा खर्च किया जा सकता है. वहीं पर्सनल लोन का ब्याज दर होम लोन एजुकेशन लोन और दूसरे लोन से काफी ज्यादा होता है. ऐसे में यदि पर्सनल लोन कभी बिल्डिंग के लिए नहीं लिया जाता जैसे कि होम लोन, इस तरीके से यह एक लायबिलिटी ज्यादा होता है. पर्सनल लोन के पेमेंट से लॉन्ग टर्म बचत पर भी असर पड़ता है. समय पर किस्त नहीं भरने पर ब्याज का बोझ भी बढ़ जाता है. बार-बार हो जाने पर क्रेडिट स्कोर भी खराब होता है.