कोई भी सरकार हमेशा के लिए नही रहती,हम इंतजार कर रहे हैं इस सरकार को जाने दो: उमर अब्दुल्ला

0
717
उमर अब्दुल्ला, गुपकार बैठक, अनुच्छेद 370, जम्मू कश्मीर, पीडीपी,एनसी, Omar Abdullah, Gupkar Declaration, National Conference, Mehbooba Mufti, PDP, Article 370, J K

बीते गुरुवार को नेशनल कांफ्रेंस, पीडीपी सहित कश्मीर की स्थानीय दलों की गुप्कार घोषणा को वास्तविक रूप देने के लिए बैठक हुई है! गुरुवार को हुई इस बैठक के अंदर ‘पीपल्स एलाइंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन’ नाम के गठबंधन की घोषणा हुई! दरअसल यह गठबंधन राज्य के अंदर अनुच्छेद 370 की बहाली की मांग करेगा! ऐसे में विपक्ष के द्वारा उठाए जा रहे इस कदम को राज्य में अपनी राजनीति दोबारा से सक्रिय करने की दिशा में एक पहल के रूप में देखा जा रहा है! नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के आवास पर हुई इस बैठक के अंदर पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, पीपल्स कांफ्रेंस के अध्यक्ष सज्जाद लोन, पीपल्स मूवमेंट के नेता जावेद अमीर और माकपा नेता मोहम्मद यूसुफ तारिगामी ने हिस्सा लिया!

इसी सिलसिले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने इस गठबंधन के बारे में कहा कि 4 अगस्त 2019 जिसको हमने जो शुरू किया था उसे ही आज आगे बढ़ाया गया है! जब हम पिछली बार मिले थे तो उस समय हम लोगों को हिरासत में ले लिया गया था और यह योजना आगे नहीं बढ़ पाई थी! उनका कहना है कि आज हमने इसे एक नाम एक प्रारूप उन्हें एजेंडा दिया है! यह अवसरवाद नहीं है यह पूरी तरीके से राजनीतिक है!

उमर अब्दुल्ला ने चीन की मदद से अनुच्छेद 370 की बहाली के सवाल पर भी जवाब देते हुए कहा कि उनके पिता फारूक अब्दुल्ला ने इस तरह का बयान नहीं दिया था! उमर अब्दुल्ला का कहना है कि उनके पिता ने जम्मू कश्मीर के मामले में चीन के बयान के बारे में बात की थी! चीन की मदद से अनुच्छेद 370 की बहाली का बयान बीजेपी प्रवक्ता की ओर से दिया गया! उमर अब्दुल्ला ने नजरबंदी में रखे जाने के सवाल के ऊपर भी जवाब देते हुए कहा कि आप हिरासत में रहने के बाद क्या खुश होकर लौटेंगे?

उनका कहना है कि मुझे पीएसए के तहत रखा गया है मुझे अपने ही लोगों के लिए खतरा समझा गया! अब्दुल्ला का कहना है कि हम भारत सरकार से कुछ मांग नहीं कर रहे हैं हमारी लड़ाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है! मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के पास कटोरा लेकर नहीं जा रहा! कोई भी सरकार हमेशा नहीं रहती! हम इंतजार करेंगे! हम इसे छोड़ेंगे नहीं!