बिहार के मजदूर ने कह दी ऐसी बात,दिल्ली के अधिकारी भी अपने आंसू नही रोक पाए…

0
28335

‘सर, मेरे पास न तो कोई बड़ी कार है और न ही साइकिल … मेरा आठ महीने का फूल जैसा बच्चा इस दुनिया को अलविदा कह चुका है। वह बच्चा जिसके लिए मैं बिहार के सबसे बड़े मंदिर में गया और भगवान से प्रार्थना की, आठ साल तक भगवान से प्रार्थना की, जब मुझे एक बेटा मिला। उनकी मृत्यु को तीन दिन हो चुके हैं, मेरे पास आपको देने के लिए कुछ भी नहीं है जो मैं आपको दे सकू बस आप मुझे बिहार पहुंचा दे। मैं एक बदकिस्मत पिता हूं जो अपने बच्चों का चेहरा भी आखिरी समय में नहीं देख सका। मुझे पैदल बिहार जाने दो ताकि मैं इस मुश्किल समय में अपनी पत्नी से कह सकूं, घबराओ मत, एक सच्चे साथी की तरह मैं तुम्हारे साथ खड़ा हूं। ‘

जब प्रशासन के अधिकारियों ने बिहार के एक मजदूर की ऐसी पीड़ा सुनी, तो उनकी आंखों से भी आंसू निकल आए। पूर्वी जिले के जिला मजिस्ट्रेट अरुण कुमार मिश्रा को मजदूर की स्थिति के बारे में तुरंत पता चला और उन्होंने उसे जांच लिया और बुधवार को नई दिल्ली से बिहार जाने वाली विशेष ट्रेन में मजदूर के लिए सीट की व्यवस्था की। एसडीएम संदीप दत्ता ने मजदूर को स्टेशन पर उतारा और उसके खाने-पीने की व्यवस्था की।

बिहार के बेगूसराय के रहने वाले राम पुकार ने कहा कि वह दिल्ली के नजफगढ़ इलाके में एक मजदूर के रूप में काम करते हैं। उनकी पत्नी और दो बेटियां बिहार में रहती हैं। आठ महीने पहले उनकी पत्नी ने एक बेटे को जन्म दिया, कोरोना के चलते लॉकडाउन लगा है। बच्चा बीमार था, पत्नी डॉक्टर को नहीं दिखा पायी। तीन दिन पहले बच्चे की मौत हो गई। वह आर्थिक रूप से कमजोर है, बिहार जाने का कोई साधन नहीं था। वह बिहार जाने के लिए पैदल निकला, दिल्ली-यूपी गेट पर पुलिस ने रोक लिया। दो दिनों तक भूखे-प्यासे सड़क पर रहे, उन्होंने अपनी समस्या के बारे में अपने पुलिसकर्मी को बताया, उन्होंने जिलाधिकारी से संपर्क करवाया।

उन्होंने जिलाधिकारी से कहा, आपको मेरा भगवान का वास्ता, मेरा बेटा मर गया है, मुझे बिहार भेजिए। उनका दिल पिघल गया और उन्होंने बिहार जाने की व्यवस्था कर दी। तीन दिन से सड़कों पर बिहार जाने के लिए ठोकरें खा रहे हैं। एक पिता कभी अपने दर्द को दूसरों को नहीं बता पाता, लेकिन होता तो वह भी इंसान ही है। जो बच्चा आठ वर्ष बाद हुआ, उसे भी देख न सके।