नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में उमर खालिद का ट्वीट, मेजर पूनिया ने ट्वीट करके पूछा अभी तक जिंदा हो

0
386
i-will-not-submit-any-documents-umar-khalid-1
Pic Credit - Google Images
i-will-not-submit-any-documents-umar-khalid-2
Pic Credit – Google Images

लोकसभा में पास होने के बाद आज राज्यसभा में नागरिकता संशोधन बिल पर बहस जारी हैं, 2 बजे से शुरू हुई बहस को छह घंटे का समय दिया गया हैं. जिसका मतलब हैं की, 8 से 8:30 के बीच में राज्यसभा में भी बिल की वोटिंग हो जाएगी.

आज जहां एक तरफ राष्ट्रवादी लोग इस बिल के समर्थन में खुशियां मना रहें हैं, वहीं टुकड़े टुकड़े गैंग, कट्टर मुस्लिम, देशद्रोही, आतंकवादी, नकस्लवादी, कम्युनिस्ट और कांग्रेस जैसे पार्टियां इस बिल का विरोध कर रही हैं.

इस बिल को इस्लाम विरोधी करार दिए जाने वाले लोगों के मुंह से कभी भी आप यह नहीं सुनेंगे की बलात्कार इस्लाम विरोधी हैं, किसी मुसलमान द्वारा गैर मुस्लिम की हत्या करना इस्लाम विरोधी हैं. खैर अब इस पर धर्म के नाम पर दो देश बनाने वाली कांग्रेस इस बिल को धर्म के नाम पर रोकना चाहती हैं.

इस बिल का सबसे बड़ा फायदा बीजेपी को होगा और नुक्सान विरोधी पार्टियों को, इस बिल के पास होते ही देश में रह रहे सभी गैर मुस्लिमों को वोट का अधिकार मिल जायेगा. 70 साल से न्याय की मांग करने वाले इन लोगों का वोट किसे जायेगा यह कहना मुश्किल नहीं.

वही 1971 के बाद भारत में आकर बसे सभी घुसपैठियों की पहचान करके उनको देश से बाहर निकाल दिया जाएगा. ऐसे में विपक्षी पार्टियों को अपनी वोटों का भरपूर नुक्सान होगा. बस यही एक कारण हैं की अन्य पार्टियां चाहती है की बीजेपी इस बिल में मुस्लिम शब्द भी जोड़ दे.

अगर आप यह सोच रहें हैं की जब कांग्रेस आएगी तो वो दुबारा संविधान बदल देगी तो ऐसा तभी मुमकिन होगा जब कोई बहुमत की सरकार बनाने में दुबारा कामयाब होगा. गौरतलब है की इंदिरा गाँधी के बाद नरेंद्र मोदी ही एक मात्र प्रधानमंत्री हैं जो बहुमत की सरकार बनाने में कामयाब रहे हैं.

ऐसे में गठबंधन की सरकार में ऐसे बिल बनाना और पास करवाना दोनों ही बहुत मुश्किल होता हैं. उसके बाद बहुमत केवल लोकसभा ही नहीं बल्कि राज्यसभा में भी चाहिए होगा. बीजेपी के पास भी अभी भले ही आंकड़ा कम हैं लेकिन बहुमत के बहुत ज्यादा करीब हैं. ऐसे में बीजेपी का साथ अगर किसी एक दल ने भी दिया तो यह बिल बीजेपी राज्यसभा से भी पास करवा लेगी.

इसी को देखते हुए टुकड़े-टुकड़े गैंग का देशद्रोही सदस्य उम्र खालिद ने ट्वीट करते हुए लिखा हैं की, “यदि नागरिकता संशोधन बिल पास हो जाता है और एनआरसी के तहत बाहर कर दिया जाता है, तो मैं भारत के संविधान पर प्रतिज्ञा करता हूं कि मैं कोई भी दस्तावेज प्रस्तुत नहीं करूंगा. यह विचार कि मुझे अपनी नागरिकता साबित करनी है, मेरी और हर किसी गरिमा के खिलाफ हैं.”

इस ट्वीट पर मेजर सुरेंदर पूनिया ने ट्वीट करते हुए लिखा है की, “आप तो कह रहे थे की अगर Article 370 हटा दिया तो जान दे दूँगा, दे दी या ज़िन्दा हो अभी? ये Tweet आपकी आत्मा लिख रही क्या?”