कट्टरपंथी भी नही रोक पाए इस शादी को,हिन्दू लड़के से शादी करके सरीफुन से शिवानी बनी लड़की…

0
672

कोरोनावायरस और लॉकडाउन काफी समय हो गया है लोगों को इन्हीं चीजों के बारे में बात करते हुए! लोग सोच रहे हैं कि कब इस वायरस से छुटकारा मिलेगा लेकिन कोरोनावायरस और लॉकडाउन कुछ लोगों के लिए अभिशाप बन चुका है तो वहीं कुछ लोगों के लिए वरदान भी! बेगूसराय का एक मामला सामने आ रहा है जहां पर एक प्रेमी जोड़े ने अनलॉक 2.0 के दौरान अपने प्यार को पाने में सफलता हासिल की है!

इतना ही नहीं बल्कि इस प्रेमी जोड़े ने अपने प्रेम के चलते तमाम बंधनों को तोड़ते हुए मजहब की दीवार को भी छोटा साबित कर दिया है! बेगूसराय की पुलिस ने भी इस प्रेमी जोड़े को एक करने में अहम भूमिका निभाई है! पुलिस के प्रयास की बदौलत ही शरीफफुन निशा और पुष्पराज गोस्वामी ने शादी कर ली है!

दरअसल यह पूरा मामला बिहार के कटिहार जिले का है! बताया जा रहा है कि कटिहार जिले के मठियाही कुरेठा गांव निवासी पुष्पराज गोस्वामी और लहासा की रहने वाली शरीफुन निशा दोनों गाय एवं बकरियां चराने के लिए जंगली इलाके में जाया करते थे! गाय और बकरियां चराने के दौरान ही दोनों की आंखें मिल गई और धीरे धीरे प्यार हो गया! प्यार होने के बाद करीब 4 साल तक छुप-छुपकर मिलते रहे! लोकडाउन के दौरान दोनों के परिजनों को इस बात की जानकारी प्राप्त हुई!

लेकिन दोनों ही अलग मजहब से ताल्लुक रखते थे जिसके चलते दोनों परिवार वालों ने इनके प्रेम का विरोध किया! ऐसे में जब परिवार वाले नहीं मान रहे थे उनका लगातार विरोध चल रहे थे तो दोनों ने भाग कर शादी करने का निर्णय लिया! जिसके बाद वह बेगूसराय पहुंच गए!

जैसे ही दोनों बेगूसराय पहुंच गए उन दोनों को संदिग्ध अवस्था में देखे जाने की वजह से लोगों ने पुलिस को सूचना दे दी! जिसके बाद पुलिस नगर थाना में दोनों को अभिरक्षा में लेकर आ गई! पुलिसकर्मी को जैसे मालूम चला तो पुलिसकर्मियों ने पुष्पराज गोस्वामी के रिश्तेदार फूफा को इस बात की जानकारी थी! लड़का लड़की दोनों बालिग है जिसके चलते प्रशासन ने भी प्रेम विवाह की इजाजत दे दी!

जिला प्रशासन ने कानून की इजाजत से दोनों को शादी करने की इजाजत दी! शादी करने के बाद शरीफुन निशा और पुष्प राज गोस्वामी दोनों बेहद खुश हैं! वहीं दूसरी ओर पुलिस ने इन दोनों की जो मदद की थी उसको लेकर बेगूसराय के रूप में राजीव कुमार ने बड़ी प्रशंसा की है और कहा है कि समाज में व्याप्त मजहबी कुरीतियों को मिटाने के लिए पुलिस का यह सार्थक पहल है!