Tuesday, September 27, 2022

Facebook को बेचना पड़ सकता है Whatsapp और Instagram, ये है वजह….

हाल ही में फेसबुक (Facebook) ने अपना नाम मेटा (Meta) कर लिया था। मेटा नाम रखने के बाद कई लोग ऐसे थे जो यह सवाल कर रहे थे कि केवल कंपनी का नाम फेसबुक से मेटा करने पर क्या लाभ होगा। वहीं दूसरी तरफ फेसबुक से जुड़े लोग यह कह रहे थे कि मेटा नाम करने से फेसबुक को सकारात्मक पहचान मिलेगी। सिर्फ इतना ही नहीं युवाओं को नए नए रोजगार मिलने की भी संभावना है। लेकिन अब खबर आ रही है कि फेसबुक को व्हाट्सएप (Whatsapp) और इंस्टाग्राम (Instagram) बेचना पड़ सकता है। आखिर क्या है पूरा मामला और इसे लेकर क्यों हो रही है खूब चर्चाएं। आइए आपको पूरी खबर विस्तार से बताते हैं।

क्या Facebook बेचने जा रहा है Whatsapp और Instagram?

फेसबुक (Facebook) की पैरंट कंपनी मेटा (Meta) को लेकर समय-समय पर चर्चा होती रहती है। हाल ही में हरियाणा (Haryana) के गुरुग्राम (Gurugram) में मेटा का एक ऑफिस खुला था। जिसमें हजारों युवा नया-नया स्किल सीख रहे हैं। इससे न सिर्फ नए क्रिएटर बनाए जाएंगे बल्कि युवाओं को रोजगार भी मिलेगा, वह भी पूरी तरह से आत्मनिर्भर होकर। लेकिन अमेरिकी एजेंसी एफटीसी ने कहा है कि मेटा कंपनी मोनोपोली अपना रही है। ऐसे में उन्हें अपना इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप बेच देना चाहिए।

मेटा कंपनी अन्य कंपनी को नहीं दे रही है अवसर

अमेरिकी एजेंसी एफटीसी ने जानकारी देते हुए कहा है कि मेटा कंपनी अन्य कंपनियों को आगे बढ़ने का अवसर नहीं दे रही है। मेटा स्पेस के नाम से फेसबुक कंपनी खुद को उच्च स्तर का बनाते हुए उन कंपनियों को नीचे करती जा रही है। जो कंपनी छोटी है। कंपनी ने कहा है कि अमेरिका में मेटा कंपनी सोशल मीडिया की दुनिया को अपने हाथों में ले रही है। ऐसे में अन्य अमेरिकी कंपनियों को लाभ नहीं हो रहा है। अन्य अमरीकी कंपनी धीरे-धीरे विलु प्त होती जा रही है।

Also Read:- Tata Group के चेयरमैन N. Chandrasekaran ने भारत की अर्थव्यस्था को लेकर कही ये बात…

एफटीसी को मिली हरी झंडी

आपको बता दें कि एफटीसी एजेंसी है, जो अमेरिका में सोशल मीडिया यूजर्स का ख्याल रखती है। एफटीसी एजेंसी मेटा कंपनी को कोर्ट में ले कर आ गई है। यह भी कहा गया है कि मेटा किसी भी तरह से अन्य कंपनियों को ऊपर उठने नहीं देता है। अगर कोई कंपनी ऊपर उठती है तो वह उसे फेसबुक में मर्ज कर लेता है। फेसबुक में मिलाने के बाद उस कंपनी को लाभ नहीं होता, जो बीते कई वर्षो से अमेरिका में काम कर रही है। आपको बता दें कि बीते वर्ष भी एफटीसी ने ही फेसबुक कंपनी को कोर्ट में घसी टा था।

RELATED ARTICLES

Most Popular