आचार्य प्रमोद ने कहा, सोनिया राहुल का सुरक्षा हटाने वाले, खुद सुरक्षा लेके क्यों चलते हैं, जम के हुए ट्रोल

0
205
crpf-takes-over-security-of-gandhis-after-govt-withdraws-spg-2
Pic Credit - Google Images
crpf-takes-over-security-of-gandhis-after-govt-withdraws-spg-1
Pic Credit – Google Images

मोदी सरकार द्वारा कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गाँधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी की सुरक्षा हटाए जाने के बाद केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल ने इनकी सुरक्षा का जिम्मा संभाल लिया है. केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल के एक अधिकारी ने बताया है की सोनिया गाँधी के निवास 10 जनपथ पर इजरायली एक्स-95, एके सीरीज और एमपी-5 बंदूकों के साथ हमारे जवानों ने सुरक्षा का जिम्मा लिया हैं.

एसपीजी सुरक्षा को हटाए जाने के पीछे गाँधी परिवार के ऊपर खतरे के कम होने का हवाला दिया है. लेकिन भारत एक ऐसा देश है जहां लोग सुरक्षा को एक स्टेटस सिंबल की तरह इस्तेमाल करते हैं. जिस नेता के पास ज्यादा सुरक्षा होती है, उस नेता का कद पार्टी में उतना ऊँचा दर्शाया जाता है.

जब यह रिपोर्ट आयी की गाँधी परिवार के सदस्यों के ऊपर अब खतरा कम है तो उनकी एसपीजी सुरक्षा को हटा कर गृह मंत्रालय ने Z+ सिक्योरिटी देने का ऐलान कर डाला. बस फिर क्या था, इस पर राजनीती शुरू हो गयी, बिना किसी तथ्य को जाने सुरक्षा हटाए जाने का ऐसे विरोध हुआ जैसे गाँधी परिवार में जन्म लेने वाले का जन्मसिद्ध अधिकार होता है एसपीजी सुरक्षा लेना.

खैर इसी कड़ी में आज कांग्रेस नेता आचर्य प्रमोद ने एक ट्वीट किया और ट्वीट में बीजेपी को तंज कस्ते हुए लिखा की, “कांग्रेस नेताओं की “सुरक्षा” हटाने वाले, ख़ुद “150” कमांडो की फ़ौज लेकर क्यूँ चलते हैं. बहादुर महाबलियों को “मौत” से इतना नहीं डरना चाहिये.”

आपको बता दें पुरे देश में इस वक़्त सिर्फ दो लोगों के पास एसपीजी सुरक्षा मजूद है, पहली नरेंद्र मोदी और दूसरे देश के प्रधानमंत्री. तो लोगों ने कांग्रेस नेता आचर्य प्रमोद के इस ट्वीट का जवाब भी अपने तरीके से दिया.


इस पर एक ट्विटर यूजर लिखते हैं की, “एक समय था जब गांधी परिवार महत्वपूर्ण बना दिया गया था और जनता के टाइप से दिए हुए हजारों करोड़ उसके ऊपर पानी की तरह बहाए जाते थे इनको सुरक्षा देश के अंदर ही चाहिए जब घोटाले का पैसा मैनेज करने चुपचाप विदेश भाग जाते हैं उस समय सुरक्षा की आवश्यकता क्यों नहीं होती?”


वहीँ एक और यूजर लिखते हैं की, “सुरक्षा का मतलब जानते हो, राहुल गांधी विदेश जाते हैं तब सुरक्षा वालों को साथ लेकर नहीं जाते इसका मतलब क्या है उनको इस देश में खतरा है विदेशों में नहीं. जब वो खुद सुरक्षाकर्मियों को साथ लेकर नहीं जाते तो सुरक्षा हटनी चाहिए.”


एक और ट्विटर यूजर ने लिखा है की, “यही बात अपने “मूर्खाधिराज” नेता ” अधीर रंजन” को बताओ कि गांधी परिवार बाहुबली है उनको “एसपीजी “की ज़रूरत क्या है? खामखां, “लोकसभा” का समय खराब कर रहा है.”