Mayawati VS Congress: Sushant Singh Rajput के मामले में अब BSP सुप्रीमो मायावती उतरी मैदान में

0
472
सुशांत सिंह राजपूत, Sushant Singh Rajput, बहुजन समाज पार्टी , मायावती, Mayawati, BSP, कांग्रेस, CONGRESS, अभिनेत्री रिया चकर्वर्ती

BSP supremo Mayawati now targets Congress government in case of Sushant Singh Rajput: अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के नि-धन को एक महीने से ज्यादा टाइम हो गया है। सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को अपने घर पर ही सु-साइड कर लिया था। सुशांत सिंह राजपूत केस की कार्यवाही अभी भी जारी है उनके बीच बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती (Mayawati, BSP) ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। मायावती ने ट्वीट करके लिखा है कि बिहार मूल के युवा बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौ-त का मामला रोज नए तथ्यों के उजागर होने और उनके पिता की तरफ से पटना पुलिस में एफआईआर दर्ज़ कराने से लगातार गहराता जा रहा है।

मायावती ने ट्वीट करके ये लिखा, ‘कि बिहार मूल के युवा बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौ-त का मामला रोज नए तथ्यों के उजागर होने और उनके पिता की तरफ से पटना पुलिस में एफआईआर दर्ज़ कराने से लगातार गहराता जा रहा है। अब मामले की जाँच महाराष्ट्र और बिहार पुलिस की तरफ से होने से बेहतर है कि प्रकरण की जाँच सीबीआई ही करे।’

उन्होंने आगे ये लिखा, ‘कि साथ ही, सुशांत राजपूत प्रकरण में महाराष्ट्र और बिहार के कोंग्रेसी नेताओ के अलग-अलग रवैये से ऐसे लगता है कि इनका असल मकसद इस प्रकारण की आड़ में पहले अपने राजनितिक स्वार्थ की पूर्ति करना है और पी-ड़ित परिवार को न्याय दिलाना बाद में, जो कतई उचित नहीं है। महारष्ट्र सरकार गंभीर हो।”

इस बीच दिवगंत अभिनेता के परिवार के वकील, वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने बुधवार को ये बोला गया कि बॉलीवुड की अभिनेत्री रिया चकर्वर्ती की तरफ पटना में दर्ज़ प्राथमिकी के स्थानांतरण के लिए शीर्ष अदालत में याचिका दायर करने से संकेत मिलता है कि मुंबई पुलिस में कोई उनकी मदद कर रहा है।

विकास सिंह ने बोला कि रिया अभी तक सुशांत सिंह मामले की सीबीआई जाँच की मांग कर रही थी। लेकिन अब उन्होंने पटना में दर्ज़ मामले की जाँच पर रोक लगाने का अनुरोध शीर्ष अदालत से किया गया है। सिंह ने बोला, ”अगर उन्होंने शीर्ष अदालत में याचिका दायर की है तो उन्हें सीबीआई जाँच के लिए याचिका दायर करनी चाहिए थी।”

उन्होंने बोला कि ये प्राथमिकी पटना में दर्ज़ हुई है और अब उन्होंने उच्चतम न्यायलय में भी याचिका दायर कर जाँच पर रोक लगाने के लिए और इस मामले को मुंबई में स्थानांतरित करने का अनुरोध किया है। इससे ज्यादा क्या सबूत चाहिए कि मुंबई पुलिस में कोई उनकी मदद कर रहा है।