एक भाई ने अपनी बहन के साथ हुए कुकर्मो का लिया बदला,दोषी को तिहाड़ जेल में मौत के घाट उतार दिया…

0
117

दिल्ली के एक व्यक्ति ने अपनी बहन के बलात्कारी को मारने की साजिश रची, जिसका समापन सात साल बाद तिहाड़ जेल में आरोपी की हत्या के साथ हुआ। हत्या की यह भयानक साजिश किसी फिल्म की पटकथा से कम नहीं है।

दरअसल, साल 2014 में मेहताब नाम के शख्स ने दिल्ली के अंबेडकर नगर इलाके में रहने वाले जाकिर की नाबालिग बहन के साथ बलात्कार किया था। जिसके बाद उस मासूम ने आत्महत्या कर ली थी। इस घटना ने जाकिर को अंदर से तोड़ दिया। किसी भी मामले में, जाकिर अपनी बहन के बलात्कार का बदला लेना चाहता था, लेकिन आरोपी बलात्कार के मामले में तिहाड़ जेल गए थे और जाकिर की पहुंच से बाहर हो गए थे।

इसके बाद, जाकिर ने साल 2014 में मेहताब की हत्या की पटकथा लिखनी शुरू की और 7 साल बाद तिहाड़ जेल में उसका क्लाइमेक्स पूरा हुआ। जाकिर ने मेहताब को जेल में मार दिया।

जाकिर साल 2018 में हत्या के आरोप में तिहाड़ जेल गया था लेकिन मेहताब तिहाड़ की दूसरी जेल में बंद था। इसलिए मेहताब तक पहुंचने के लिए जाकिर ने एक योजना तैयार की। उसने बिना किसी कारण के अपने साथियों के साथ झगड़ा करना शुरू कर दिया। दिन-प्रतिदिन के झगड़े को देखते हुए, तिहाड़ प्रशासन ने जाकिर को जेल नंबर 8 में स्थानांतरित कर दिया, यानी मेहताब को बंद कर दिया गया।

29 जून की सुबह, जाकिर ने जेल में लोहे की छड़ से धारदार चाकू से मेहताब पर हमला किया और उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया, जिसके बाद मेहताब ने डीडीयू अस्पताल में दम तोड़ दिया। फिलहाल पुलिस ने जाकिर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है।