Tuesday, September 27, 2022

अश्विनी उपाध्याय को मिली जमानत….

Delhi: अश्विनी उपाध्याय (Ashwini Upadhyay) के नेतृत्व में बीते कुछ दिन पहले 8 अगस्त को जंतर मंतर (Jantar Mantar) पर लगभग 5000 से ज्यादा लोग इकट्ठा हुए थे। इसमें कुछ असामजिक तत्वों ने भी ड़ का फायदा उठाते हुए लोगों ने एक विशेष समुदाय को लेकर ना रे लगाए थे। इसके बाद ही अश्विनी उपाध्याय (Ashwini Upadhyay) समेत अन्य आयोजकों पर मामला दर्ज किया गया था। दिल्ली कोर्ट (Delhi High Court) ने बीते दिनों सुनवाई करते समय अश्विनी उपाध्याय (Ashwini upadhyay) को 2 दिन की न्यायिक हिरा सत में भेजने का निर्णय लिया था। लेकिन आज यानी 8 अगस्त को अश्विनी उपाध्याय को दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) द्वारा जमानत दे दी गई है। क्या है पूरा मामला, आइए आपको विस्तार से बताते हैं।

न्यूज़ एजेंसी ANI ने ट्वीट कर दी जानकारी

न्यूज़ एजेंसी ANI ने अश्विनी उपाध्याय (Ashwini upadhyay) को रिहा होने की जानकारी देते हुए अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल के माध्यम से ट्वीट कर जानकारी देते हुए लिखा है कि “जंतर मंतर मामले में अश्विनी उपाध्याय को दिल्ली कोर्ट द्वारा मिली रिहाई।”

ये भी पढ़े : मुख्य सचिव मामले अमानतुल्लाह खान घिरे…

 

वीडियो में दिखने वाले व्यक्ति से हमारा कोई लेना देना नही

भारत जोड़ो आंदो लन की मीडिया प्रभारी शिप्रा श्रीवास्तव (Shipra Srivastava) ने वीडियो को लेकर कहा कि हमारा इस वीडियो से कोई लेना देना नहीं है। भारत जोड़ो आंदो लन भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय (Ashwini upadhyay) के नेतृत्व में हुआ था लेकिन वह लोग कहां से आए थे और कौन थे उनके बारे में हमें जानकारी नहीं है। साथ ही साथ मीडिया प्रभारी ने कहा कि हमारी तरफ से उन व्यक्तियों को नहीं बुलाया गया था, जिन्होंने ना रे लगाए थे। हम 8 अगस्त को 5 कानूनों को लागू करवाने के लिए इकट्ठा हुए थे ना कि किसी जाति तथा धर्म को नीचा दिखाने के लिए। वह लोग कौन थे इसकी जानकारी पुलिस को होनी चाहिए, अश्विनी उपाध्याय (Ashwini upadhyay) को नहीं।

अश्विनी उपाध्याय ने कहा संबंधित व्यक्ति की जांच हो

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रवक्ता और सुप्रीम कोर्ट (Supream Court) के वकील अश्विनी उपाध्याय (Ashwini upadhyay) ने नारे बाजी करने वालों में व्यक्ति से संबंध को लेकर इन कार कर दिया है। अश्विनी उपाध्याय ने कोर्ट ने कहा कि जंतर मंतर (Jantar Mantar) पर लगभग 5000 से अधिक लोग इकट्ठा हुए थे। उसमें दिल्ली समेत कई राज्य कि साधु संत समेत उनके समर्थकों ने हिस्सा लिया। लेकिन हमने जिन लोगों को आह्वान कर बुलाया था उनमें से किसी ने भी किसी प्रकार की ना रे बाजी नहीं की है। साथ ही साथ अश्विन उपाध्याय ने यह भी कहा कि जो शख्स अनुचित कार्य किया है इसकी जांच की जाए और उसे धरा जाए।

RELATED ARTICLES

Most Popular