सचिन पायलट 1 नंबर का निकम्मा है,बिना कुछ किये बनना चाहता था मुख्यमंत्री: गहलोत

0
667
Ashok Gehlot Said about Sachin Pilot, Ashok Gehlot , Sachin Pilot, rajasthan news, rajasthan politics, ashok gehlot video

राजस्थान में सियासी संकट अभी भी जारी है। हाइकोर्ट में जो सुनवाई चल रही है उसके बिच अशोक पायलट पर जमकर ह मला किया गया है। उन्होंने छोटी उम्र में ही सचिन पायलट को पार्टी की तरफ से सबकुछ देने के बाद भी धोखा देने का आरोप लगाया। सीएम ने ये भी बोला कि वो निकम्मे है और उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष बनने के लिए मुंबई में कॉर्पोरेट हाउस की मदद ली है।

सीएम अशोक गहलोत ने ये भी बोला कि सचिन पायलट पीसीसी कांग्रेस के अध्यक्ष रहे है, लेकिन उन्होंने षड्यंत्र रचा। 12 साल में उन्हें पार्टी ने सब कुछ दिया है और जब मैं बोलता हूँ तो किसी को यकीन नहीं हो सकता कि षड्यंत्र चल रहा है। मीडिया को भी उन्होंने इम्प्रेस कर रखा था। पुरे देश भर में बार-बार यही जताया जा रहा कि उनके कारण ही राजस्थान में सरकार बनी है। उन्होंने बोला कि सचिन पायलट हो या बीजेपी में शामिल होंगे या सरकार गिराएगे।

बीजेपी भी उनका सहयोग कर रही है कि वो उनके समर्थक विधायकों के सामने अपने प्रत्याशी खड़ा नहीं करेगी। गहलोत ने ये भी बोला कि 7 साल में केवल राजस्थान ही एकमात्र ऐसा राज्य है, जहा प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष को बदलने की कभी किसी ने भी मांग नहीं की है। जबकि सब जानते थे कि वो निकम्मे है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बड़ा आरोप लगाते हुए ये बोला कि सचिन पायलट पीसीसी अध्यक्ष रहते हुए षड्यंत्र रचकर लोगो को लाडवा रहे थे। कांग्रेस अध्यक्ष बनने के लिए उन्होंने मुंबई के कॉर्पोरेट हाउस सचिन पायलट की मदद कर रहे थे। हरीश सॉल्व कॉर्पोरेट हाउस के वकील है, राजस्थान में सचिन पायलट की वो मदद कर रहे है। बीजेपी को खुश करने के लिए षड्यंत्र हो रहा है, जिसका मकसद कांग्रेस सरकार को गिराना है।

अशोक गहलोत ने ये बोला कि रातो-रात बीजेपी प्रदेश के अध्यक्ष सतीश पुनिया और राजेंद्र राठौर दिल्ली गए थे, लेकिन अगले दिन वापस जयपुर आकर उन्होंने मीडिया से झूठ बोला कि वो दिल्ली गए ही नहीं है। सचिन पायलट भी चुप-चाप अपनी गाड़ी लेकर दिल्ली चले जाते थे अपनी सारी सुरक्षा को छोड़कर और ये सबकुछ उनके इसी षड्यंत्र का ही हिस्सा था।

सचिन खेमे में शामिल विधायक हमारे पास आना चाहते है, लेकिन उन्हें अब उन्हें बंधक बना रखा है। हम उम्मीद करते थे कि सचिन पायलट कांग्रेस के एसेट साबित होंगे, लेकिन अब एक ही विधायकों को बंधक बनाकर बाउंसर लगा रखे है।

अशोक गहलोत ने ये भी बोला, ‘कि ऐसा इतिहास में कभी नहीं सुना है कि एक पीसीसी का अध्यक्ष जी अपनी ही सरकार को गिराने के लिए इस तरह की कोशिश में जुटा रहे हो। हमारे विधायकों को होटल में रुकवाने का बिल तो हम देंगे, पार्टी देगी, लेकिन उनसे पूछिए कि उनका बिल कौन देगा ? बीजेपी के लिए उनका ये कदम आत्मघाती साबित होगा। विधायक भवरलाल शर्मा ने तो जब भैरो सिंह शेखावत इलाज कराने के लिए विदेश में ही था। तब उनकी सरकार को गिराने की कोशिश की तब हाइकोर्ट का फैसला भी आएगा, विधानसभा भी चलेगी।’